ओ पाकिस्तानी

Naseem Turk

ओ पाकिस्तानी
(5)
पाठक संख्या − 309
पढ़िए

सारांश

दिल पर चोट करने वाली गली
Mohmmad akram khan
ये तो हिंदुस्तान में बहुत जगह पर ऐसा होता है, लेकिन कुछ भी हो ये हमारा और हम सबका ये प्यारा देश हिंदुस्तान हमारा है, हम इस देश की मिट्टी में पैदा हुए और यही बच्चों से जवान हुए और बुजुर्ग होकर यही पर ये प्यारे वतन की मिट्टी में मिल जाना है, कोई अगर मुसलमान समझ कर ऐसा बोलता है तो कोई बात नहीं है, कियोकि उसको मालूम है कि हम यही के निवासी हैं, उनको हमे अपनी वतन परस्ती का सबूत देने की जरूरत नहीं है कियोकि उनका ही एक बहुत बड़ा तबका ये सब बातों का समर्थन नहीं करता और वह बहुत मान सम्मान से हमारा सम्मान करते हैं इसलिए जो भी बोलता है ओ पाकिस्तानी ये, पाकिस्तान चले जाओ ये बात में कोई दम नहीं है, कियोकि हम जानमिक हिन्दुस्तानी है, ये अधिकार कोई हम से छीन नहीं सकता है,
Chandan Joshi
सबसे पहले राष्ट्र, सारे जहाँ से अच्छा हिंदोस्तान हमारा,
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.