ऑन द हेज ऑफ मिडनाइट लिली- 2

Nitin Mishra

ऑन द हेज ऑफ मिडनाइट लिली- 2
(418)
पाठक संख्या − 7664
पढ़िए

सारांश

रात और ज्यादा सर्द हो चली थी| बारिश और तेज़ हवा का शोर जैसे दिमाग पर नगाड़ों सी चोट कर रहा था| रात के अन्धकार में भी क्षितिज तक बिखरे हुए लाल वर्षामेघों से हर थोड़ी देर पर बिजली कौंध कर जैसे चेतावनी दे ...
Mee Nu
kahani ka anta khaufnaak tha interesting bhi
majhar
awesome story sir
मयूरेश मनोरंजन
अद्भुत अकल्पनीय जबर्दस्त। पढना शुरू किया तो एक ही बार में पूरा पढ़ गया
Preeta Singh
wah yun lga ki ved prakash sharma ki book padh rhin hun, bahut hi behtareen likha h aapne.
Amita Bansal
👏👏👌👌 बहुत बढिया । आखिर तक रहस्य बना रहा। यही खूबी आपको the best writer बना देती है।
Snehlata Shree
kya story H SIR ❤️ amazing
Shivani Meshram
Zabardast story👌👌
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.