एहसान जिंदगी का

Vidya Sharma

एहसान जिंदगी का
(642)
पाठक संख्या − 101584
पढ़िए

सारांश

नीता आज ऑफिस से लौटते वक्त ढाबे पर शाम के लिए खाना पैक करवाने को रुकी। वहां बहुत से लोग खाना खा रहे थे, तभी उसने देखा कि 8 -9 साल की लड़की को कुछलोग डांट रहे थे। वहां उसे खाना मांगने पर कुछ ने तो ...
anjali subhash
😷😷😷😷😷😷😷😷😷😷😷😷😷😷😷😷😷😷kuch khna suraj ko deepak dikhana hoga......jaise samajik buraeon ko btaya h or uske sath hi unka nivaran bhi......to bs let's start🙏🙏🙏
Mukesh Duhan
very nice mam
रिप्लाय
अनुपमा झुनझुनवाला
दिल को छू गई आपकी ये कहानी विद्या 👏👏👏👏👏👌👌👌👌👌👌
रिप्लाय
Satinderjit Bhatia
Sundar mann Sundar soch
रिप्लाय
suraj grover
Uttam Lajawab dil chone wali ❤️❤️❤️
रिप्लाय
Baljit Singh
very nice
रिप्लाय
MONIKA MEHRA
गुड स्टोरी बट नोट इन रियल लाइफ
रिप्लाय
Ramesh Tripathi
bahut achhi kahani meri khud ki soch bhi yahi hai ki hame jo mila hai aur hamare andar samarthya hai to use hame samaaj ko jaroor lautana chahiye
रिप्लाय
Beena Shrivastava
bhut hi accha nirnay liya gya khani prarna dene vali hai aaj ke yug me
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.