एसिडिक लव

प्रतीक मैनावि

एसिडिक लव
(18)
पाठक संख्या − 4502
पढ़िए
BEPARWAH
good कृपया एक बार मेरी रचना ' ऐ शत्रु तू होश संभाल' देखें आपकी बड़ी मेहरबानी होगी।
रिप्लाय
Ankit Maharshi
हकीकत ये है कि यह कहानी यहीं खत्म नही होती है।कई बार दर्द की गहराई से प्यार की गहराई में उतरा जाता है। कथानायिका का समर्पण भाव एक बारगी एहसान लग सकता है परंतु देर सबेर उसके पीछे छिपे प्यार को पहचान लिया ही जायेगा।
रिप्लाय
Gurmeet kaur Matharu
sach me. dil chhu liya iss kahani ne. aaj ki matlabi duniya me esa pyaar nasib walo ko milta he. par jise milta he wo sambhal nai pata. uski kadar nahi karta.
रिप्लाय
jaya
👏👏 bhavuk kr diya.. that's true love 😇😇👍
रिप्लाय
Sumit Singh
heart touching story......
रिप्लाय
FARHA KHAN
bhut umda
रिप्लाय
Kamini Dubey
Lazbab
रिप्लाय
suchita tiwari
very nice.....
रिप्लाय
Komal Rajput
that's a true love
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.