एक समज

લતા ભટ્ટ

एक समज
(43)
पाठक संख्या − 5193
पढ़िए

सारांश

किचनमें आकर चिन्टू बोला ,"मम्मी, मेरा मोबाइल देखा? कबसे ढूंढ रहा हूँ, कही नहीं मिल रहा।" नहीं, मैंने नहीं देखा ,ठीक तरह से देखो वहीं कही होगा मिल जाएगा।" "मम्मी, मैंने बहोत ढूंढा, कल रात सोते समय ...
Sudha Sant Agrawal
मनोरंजक प्रस्तुति
रिप्लाय
Aashu Jain
Atisunder... 👌
रिप्लाय
Ashish Pal
समय के अनुरूप
रिप्लाय
Wr. sandeep patel (Surya)
supab kalamkari jai shiv shambhu 🙏🙏🙏🙏🙏
रिप्लाय
Sukhpal Randhawa
very good classes for children the way to make children's motivation
रिप्लाय
Garima Sharma
ek dum shi kiya mamaji ne..aajkl ki gernation bs mobiles aur new apps ki diwani hai...
Manavprem
baat kehne ka tarika bahut achchha hai, maan gaye ji👍
alka puri
kaash....har ek shaks ko ye samajh aa jaaye
Aruna Ramarao
bahut hi behtarin Katha!
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.