एक रिश्ता ऐसा भी

आशा सिंह

एक रिश्ता ऐसा भी
(329)
पाठक संख्या − 17751
पढ़िए

सारांश

आँखे बंद किये हुए नंदनी ट्रेन के 1स्ट क्लास के डिब्बे में अपनी सीट पर लेटी हुई थी ।दूसरी बर्थ पर कोई नहीं था उसे मनमाफिक एकान्त भी जुट गया था ।पर लग रहा था उसका दिल भी ट्रेन के पहियो की रफ़्तार के साथ ...
Priyaa Wadhwa
True love... Speechless 😶
Rashmi Sharma
pyar Karne walo ko ye duniya aur samaj Kabhi ni samjh Sakta h wo to bas Apne bnaye huye niyam aur kanoon ko hi Sahi manta h fir chahe Kisi ki duniya hi kyu n barbaad ho Jaye
Jyoti Dawar
heart touching story
PANKAJ SHUKLA
यह सब कहानियों में ही अच्छा लगता है
shukrana Karu
क्या कहूं, क्यूं बच्चे अपने माता-पिता की खुशी और उनके प्रति अपनी जिम्मेदारी को नहीं समझते
Davinder Kumar
Ye zindagi ki sachchai hai
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.