एक प्रेम की परिणति

देवेन्द्र प्रसाद

एक प्रेम की परिणति
(91)
पाठक संख्या − 4157
पढ़िए

सारांश

आज ही महाबलेश्‍वर पहुंचा हूं। ताज रिसॉर्ट में अपने कमरे में पहुंच, पलंग पर पसरकर सुकून की सांसें ले रहा हूं। अमूमन, जो सुकून कुछ व्यक्तियों को किसी व्यावसायिक दौरे से थक-हारकर घर लौटने पर मिलता है, ...
NEHA SHARMA
agar purush ki tarah stree bhi aapne phle pyar ko SHADI k baad bhi yaad kare jis tarah is kahani k Nayak ne aapni "so called" kalpana me rkha to Kya wo pati dwara saharsh aapnai ja sakti hai
Vijaya Pareek
यहाँ काफी कुछ कहानियां पढ़ी,पर मै उनको पढ़कर समीक्षा नही करना चाहती ,पर आपको पढ़कर लगा कि हा यहाँ अच्छे स्तर का लेखन हैं, और आपकी कहानी समाज को समझने वाली लगी ,जो बीत गया सो बीत गया, जो अब अपना है उसे भरपूर जी लो ,बधाई ,सुंदर लेखन की ,।
रिप्लाय
Smita Nigote Yadav
very nice
रिप्लाय
Riya mittal
nice story mazaa aaya pad kr
रिप्लाय
Poonam Singh
bahut sunder..vastvikta ka parichay diya hai aapne
रिप्लाय
Hema Kandari
Meri hassi .. ruk nhi rhi pad ke ... bta nhi sakti .kitna khus Hui me ... bahut hi achha .. Kya likhu
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.