एक प्रेम कहानी ऐसी भी

Sneh Bharti

एक प्रेम कहानी ऐसी भी
(325)
पाठक संख्या − 41805
पढ़िए

सारांश

वर्ष 1980 की बात रही होगी जब मैं किसी काम के सिलसिले में अमृतसर आया था। अचानक मेरी भेंट बुआ जी के बेटे प्रेम से हो गई। बातों बातों में उसने पूछ लिया आजकल कहाँ हूँ मैं। मैंने बताया कि चंडीगढ़ में नौकरी ...
Sandeep Mishra
सुंदर रचना
S Bharmal
bohot acchi aur sikhne wali story thi ki kabhi kisi ki hakikat jane bagair usko galat nahi samjhna chahiye...bohot khub
Payal Agrawal
waqt insan se kuch bhi karwa sakta h
Bina Sinha
सच्चा प्रेम ऐसा ही होता हैं
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.