एक नज़र का प्यार और पन्द्रह दिन...

एक नज़र का प्यार और पन्द्रह दिन...
(222)
पाठक संख्या − 25969
पढ़िए
Vaishali Yadav
so sad.... thank God hmlog 21 century me h wrna pehle kisi ko dhundna kitna mushkil hota tha or kitni love stories adhuri reh jati thi
Santosh Bastiya
शब्द नही है तारीफ के, बहुत बढ़िया। कृपया मेरी रचना 'अंधेरो के साये' जरूर पढ़ें ।और अपना मूल्यवान समीक्षा जरूर दें।
Vaishnavi Ojha
Agar story hai to end isse behtar ho skta tha...aur agar haqiqat hai to zaruri nahi ke kahani puri hi ho...
mnu kohli
useless story
रिप्लाय
Ekta Pratik Parmar
lovely story.
रिप्लाय
Mohit Joshi
Bahut boring kahani the kafi jyada lamba khich diga kahani ko
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.