एक त्रिवेणी यहाँ भी

केशव मोहन पाण्डेय

एक त्रिवेणी यहाँ भी
(18)
पाठक संख्या − 882
पढ़िए

सारांश

मन में भ्रमण का उत्साह, सौंदर्य का आकर्षण और दो देशों की राजनैतिक सीमा के साक्षात्कार की त्रिवेणी में प्रवाहित होकर ही त्रिवेणी जा रहा था। हम छः मित्र और एक जीप ड्राइवर! मुझे छोड़ अन्य सभी इस प्रांत ...
रीता
बहुत सुंदर प्रस्तुतिकरण, मानो वहीं घूम रहे हों। शायद राज्य सरकारें सैलानियों के डर को समझ कर जल्दी दूर कर सकें और त्रिवेणी का महत्व पहले सा हो जाये।
Annu Rai
bahut hi badiy. Padte waqt esa lag raha tha ki hum bhi aapke sath ghum rahe ho.
ऋषिराज
nicely discripted.. need to put pictures also..pls write in small paragraphs..it will keep the reader enthusiastic.👌👌👌👍👍
Vijay raj
mei is jagah ko achhi tarah se janta hu. mera ghar yahi valmikinagar me hai. bahut hi achhi jagah hai ye
अंकित मिश्रा
अति सुंदर
रिप्लाय
Gupta Rachna
बहुत खूब अति सुंदर अभिव्यक्ति
रिप्लाय
Amit jaiswal
good place and good story
रिप्लाय
Rahul Dwivedi
its very close to my house.in triveni magar-gaj story background,
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.