एक जैसे ही थे दोनों

निशान्त

एक जैसे ही थे दोनों
(208)
पाठक संख्या − 16350
पढ़िए

सारांश

गुड्डू जा चुका था और कुछ एक पल की खामोशी के बाद मेरे दिल में न जाने क्या आया की मैंने रसिका की बैकलेस और डीप नेक वाली ड्रेस देखते हुए उससे पूछ लिया, "इतनी सर्दियों में लड़कियां कैसे इतने कम कपड़े पहन कर पार्टी अटेंड कर लेती हैं?" रसिका ने एक पल को हैरान हो कर मुझे देखा और फिर उसी कातिल अदा से मुस्कुरा कर मुझसे बोली, "और लड़कियों का तो पता नहीं, मुझे गर्म कपड़ों की ज़रुरत कम पड़ती है क्यूंकि मैं हॉट हूँ. "मेरे लिए वो एक मायने में अनजान लड़की थी और ऐसा कुछ पहली ही मुलाक़ात में मैं सुनने को मेंटली तैयार नहीं था. लेकिन मुझे लगा देवर समझ कर मज़ाक कर रही होगी इसलिए मैंने भी सोचा की वैसा ही कुछ जवाब दे दूं. मैंने इतराते हुए कहा, "तो एकदम से आपको गर्म कपड़ों की ज़रूरत क्यूँ पड़ गयी?" मुझे लगा रसिका झेल जाएगी, लेकिन उसने मुझे फिर चित कर दिया. अपने क्लीवेज की ओर एक नज़र डालते हुए बोली, "शायद मेरी हॉटनेस आज कुछ कम हो गयी है. वरना भला आप नोटिस न करते ऐसा नहीं हो सकता था. इसी लिए सर्दी लगी आज."
Rita Soni
vakai dono ek jese hi the ,chor chor mosere bhai ha ha ha ha
रिप्लाय
Menka Khanna
wakai aaj ki hakiakt baya karti hui
रिप्लाय
Madhuram Sinha
ha ha
रिप्लाय
Trapti Tamrakar
हा हा हा😂😂😂
रिप्लाय
Vipul Agrawal
बेहतर होता कि आप इसका शीर्षक ' तीनों एक से थे 'रखते
रिप्लाय
Sanjeev Kumar
good story line up, nice job
रिप्लाय
ईश्वर सिंह बिष्ट
हार्दिक बधाई शुभकामनाएँ आपको बहुत बहुत धन्यवाद । सभी कुछ कुशलता से लिख दिया । क्या कहें। हाँ, नायिका के आकर्षण को बताने के लिए , सीधे तौर पर लिख सकते थे । माँसल गदरायी देह । जिसका वर्णन आदरणीय प्रेमचंद जी ने "गोदन" में किया है । बाक़ी तो राम मिलाई जोड़ी...आगे का मुहावरा तो आपको पता ही है ।
रिप्लाय
रूहेला सागर
😂😂😂😂
रिप्लाय
Vyomkesh Shukla
पढने लायक है
रिप्लाय
Dinesh Shaikh
ये तो होना ही था
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.