एक जैसे ही थे दोनों

निशान्त

एक जैसे ही थे दोनों
(217)
पाठक संख्या − 16879
पढ़िए

सारांश

गुड्डू जा चुका था और कुछ एक पल की खामोशी के बाद मेरे दिल में न जाने क्या आया की मैंने रसिका की बैकलेस और डीप नेक वाली ड्रेस देखते हुए उससे पूछ लिया, "इतनी सर्दियों में लड़कियां कैसे इतने कम कपड़े पहन कर पार्टी अटेंड कर लेती हैं?" रसिका ने एक पल को हैरान हो कर मुझे देखा और फिर उसी कातिल अदा से मुस्कुरा कर मुझसे बोली, "और लड़कियों का तो पता नहीं, मुझे गर्म कपड़ों की ज़रुरत कम पड़ती है क्यूंकि मैं हॉट हूँ. "मेरे लिए वो एक मायने में अनजान लड़की थी और ऐसा कुछ पहली ही मुलाक़ात में मैं सुनने को मेंटली तैयार नहीं था. लेकिन मुझे लगा देवर समझ कर मज़ाक कर रही होगी इसलिए मैंने भी सोचा की वैसा ही कुछ जवाब दे दूं. मैंने इतराते हुए कहा, "तो एकदम से आपको गर्म कपड़ों की ज़रूरत क्यूँ पड़ गयी?" मुझे लगा रसिका झेल जाएगी, लेकिन उसने मुझे फिर चित कर दिया. अपने क्लीवेज की ओर एक नज़र डालते हुए बोली, "शायद मेरी हॉटनेस आज कुछ कम हो गयी है. वरना भला आप नोटिस न करते ऐसा नहीं हो सकता था. इसी लिए सर्दी लगी आज."
Milu Chalan
jesi karni wesi varni. tum jese ho tumhe wese hi saathi milega.. it's real. btw nice story
रिप्लाय
Mahesh Mishra
good
रिप्लाय
IBRAR AHAMAD RANGAREZ
वाकई एक जैसे थे
रिप्लाय
Ankita Sharma
ek jaise hi the dono ...
रिप्लाय
Rita Soni
vakai dono ek jese hi the ,chor chor mosere bhai ha ha ha ha
रिप्लाय
Menka Khanna
wakai aaj ki hakiakt baya karti hui
रिप्लाय
Madhuram Sinha
ha ha
रिप्लाय
Trapti Tamrakar
हा हा हा😂😂😂
रिप्लाय
विपुल अग्रवाल
बेहतर होता कि आप इसका शीर्षक ' तीनों एक से थे 'रखते
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.