एक कमज़ोर लड़की

सूरज प्रकाश

एक कमज़ोर लड़की
(224)
पाठक संख्या − 27329
पढ़िए

सारांश

" वे मेरी पहली फेसबुक मित्र थीं जो मुझसे रू ब रू मिल रही थीं। फेसबुक पर मेरी फ्रेंड लिस्‍ट पर बेशक काफी अरसे से थीं लेकिन उनसे चैटिंग कभी नहीं हुई थी। कभी उन्‍होंने या मैंने एकाध बार एक दूसरे की पोस्‍ट को लाइक किया हो तो अलग बात है। उन्‍होंने एक बार अपनी वॉल पर लिखा था - खुद के लिए कठोर सज़ा तय की है......इस वर्ष मैं पुस्तक मेले में प्रगति मैदान नहीं जा रही.....कारण! गत वर्ष जो किताबों का अर्धशतक उठा लायी थी और सब के सब पढ़े जाने का प्रण लिया था, मैं उसे पूरा नहीं कर पायी....असल में 10 भी नहीं पढ़ पायी.... इस अपराध में मैं खुद को उस ज्ञान सागर में डुबकी लगाने के अयोग्य समझती हूं।..... दु:खद।...."
Gyanendra Kumar
अंत तक गजब तरीके से बांधे रहने वाली कहानी। बेहतरीन लेखन, अद्भुत लयबद्धता, प्रबुद्धता।
Sapna Aggarwal
bhut hi khubsurt kahni ....☺️
रिप्लाय
Priyanka
Great story sir....
Shanta Vaishanv
mene y khani kai bar pdhi h hr bar an nwa arth mila h ...behtreen
रिप्लाय
Vinayak Katare
अति सुंदर रचना। बेहद्द पसंद आई।
Poonam Poonam
बहुत अच्छा लिखते हैं सर आप हृदय से नमन
रिप्लाय
NIDHI BARANWAL
kahani aadhi adhuri reh gayi
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.