एक कमज़ोर लड़की

सूरज प्रकाश

एक कमज़ोर लड़की
(236)
पाठक संख्या − 27606
पढ़िए

सारांश

" वे मेरी पहली फेसबुक मित्र थीं जो मुझसे रू ब रू मिल रही थीं। फेसबुक पर मेरी फ्रेंड लिस्‍ट पर बेशक काफी अरसे से थीं लेकिन उनसे चैटिंग कभी नहीं हुई थी। कभी उन्‍होंने या मैंने एकाध बार एक दूसरे की पोस्‍ट को लाइक किया हो तो अलग बात है। उन्‍होंने एक बार अपनी वॉल पर लिखा था - खुद के लिए कठोर सज़ा तय की है......इस वर्ष मैं पुस्तक मेले में प्रगति मैदान नहीं जा रही.....कारण! गत वर्ष जो किताबों का अर्धशतक उठा लायी थी और सब के सब पढ़े जाने का प्रण लिया था, मैं उसे पूरा नहीं कर पायी....असल में 10 भी नहीं पढ़ पायी.... इस अपराध में मैं खुद को उस ज्ञान सागर में डुबकी लगाने के अयोग्य समझती हूं।..... दु:खद।...."
Navneet Mittal
बहुत खूब
Pooja Sharma
bhut achi rhi acha lga pd kr
रिप्लाय
Kamlesh Sharma
ek imandar pita ka jiwan jine ka mArmik chitran badhai k patra he
रिप्लाय
Bhakti Agrawal
Bahut hi umda lekhak hain sir aap..Meri Shubhkamnaye..🙏
रिप्लाय
Neha Mishra
adhuri hai
रिप्लाय
Gyanendra Kumar
अंत तक गजब तरीके से बांधे रहने वाली कहानी। बेहतरीन लेखन, अद्भुत लयबद्धता, प्रबुद्धता।
Sapna Aggarwal
bhut hi khubsurt kahni ....☺️
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.