एक और दामिनी !!!

संजना किरोड़ीवाल

एक और दामिनी !!!
(461)
पाठक संख्या − 19802
पढ़िए

सारांश

दोष छोटे कपड़ो का नहीं इंसान की छोटी सोच का है जो इंसान को इंसान से जानवर और जानवर से हैवान बना देती है !!!!
Manju Chouhan
अश्को से भीगा , दामन मेरा फूल सी बच्ची को ,दरिंदो ने मारा आखिर कब तक ,लुटती रहेगी ? नारियों की अस्मत ।😅😅 यह सिर्फ कहानी नहीं है वर्तमान समय की कड़वी सच्चाई है अखबार के मुख्य पृष्ठ की घिनोनी तस्वीर ........
Neetu Joshi
This story filled a great pain in heart.
Mohini Gupta
Bhut dardnak par samaj ki asali कहानी
DrAnuradha Chaturvedi
अत्यंत हृदयविदारक रचना😫😪
तारा चन्द गुर्जर
ये क्या हो गया ह इस समाज को। रोज चारो तरफ यही सुनने को मिल रहा है।
Vimalkumar Jain
achhi hai per story poora karne main zaldi kar dee
Radha Rani
जब तक बच्चों के harmons नहीं बदल जाते, तब तक वो केवल बच्चे होते हैं ना कि स्त्री या पुरुष। इतनी छोटी उम्र के बच्चों के साथ हैवानीयत निश्चित ही शर्मनाक है।
neetu singh
इस दर्द से हर रोज अनगिनत बेटियां रोज गुजरती हैं और उनके दर्द से अनगिनत मांए रोज़ टूटती हैं..कब समझ आएगी कब बदल पाएंगे हम समाज और उसकी गिरी हुई मानसिकता ..? भावनात्मक रचना .. सराहनीय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.