एक अधूरी कहानी

अभिलाष दत्ता

एक अधूरी कहानी
(333)
पाठक संख्या − 20321
पढ़िए

सारांश

बचपन का प्यार , जब इतने सालों बाद एकाएक दुबारा दिखा , तो कैसा हुआ रवि का हाल ? बचपन का प्यार , आपसी रिश्ते , पढाई , जिम्मेदारी का एहसास , ज़िन्दगी का अकेलापन लेते ।।।।।।।
Davinder Kumar
अभिलाष जी आपने कथा बहुत सुंदर लिखी है बधाई हो
Usha Garg
कहानी का नाम अंत की लाइन पढ़कर लगा कि ऐसा प्रेम की पराकाष्ठा में जी हो सकता है
Somesh Ârmo
👌👌👌👌👌
Yogendra Singh
आखिरी का सरप्राइज पंच अच्छा लगा।
Nisha Sori
full feeling se bhari story
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.