ऊँचे पहाड़ों के अंचल में

गणेश शंकर विद्यार्थी

ऊँचे पहाड़ों के अंचल में
(29)
पाठक संख्या − 2151
पढ़िए

सारांश

(1) जेल के कैदी जेल को जेल और जेल के बाहर के स्‍थान को 'दुनिया' के नाम से पुकारते हैं। इसी प्रकार पहाड़ के रहने वाले लोग अपने देश को 'पहाड़' और नीचे के देश को 'देश' के नाम से पुकारते हैं। या, यों ...
Alok Pandey
वाह आजादी के पहले का यात्रा संस्मरण। देश-धर्म के प्रति विचारों ने मन को झकझोर कर रख दिया।
Priy Raghav
जातिवाद पे कड़ी चोट करता हुआ ये वृतांत भारतीय समाज के काले अध्याय जो अभी भी कहीं कहीं शेष है, को रेखांकित करता है।
Nirmala Verma
samaj me jatiwad ki sachchai ka vrnan bahut hi marmik h hamara samaj aaj bhi inse uber nahi paya h😢
विवेक चंदेल
जमीनी हकीकत को अच्छे से कागज़ पर उतारा है
Pooja Singh
सच्चा विवरण.
SHARMA FAMILY
बहुत अच्छे ढंग से पहाड़ को दर्शाया है। धन्यवाद
ऋतेश कुमार
सदियो से होते हुए इस अनाचार और दुराचार का निराकरण न हो पाना सभ्यता और मनुष्यता के माथे पर बहुत बड़ा कलंक है।
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.