उस रात की गंध

धीरेन्द्र अस्थाना

उस रात की गंध
(203)
पाठक संख्या − 84454
पढ़िए

सारांश

लड़की मेरी आँखों में किसी अश्लील इच्छा की तरह नाच रही थी। 'पेट्रोल भरवा लें।' कह कर कमल ने अपनी लाल मारुति जुहू बीच जानेवाली सड़क के किनारे बने पेट्रोल पंप पर रोक दी थी और दरवाजा खोल कर बाहर उतर गया ...
Manoj Tyagi
yaar vastav me jeevant story he aapne jaavan ko karib se padha he shayad
Neha Neha
shaandaar subject👍
Jainand Gurjar
shaandaar☺☺☺☺ जी आप मेरी नई कहानी"मानसिक बलात्कार" और "उसका यूँ तोतलाना" पढ़ सकते हैं।
Satya Prakash Shukla
महानगरों में युवाओं के संघर्ष की जद्दोजहद औऱ उनके अंतर्मन की व्यथा को दर्शाती एक बेहतरीन रचना, साथ ही समाज का नंगा व कड़वा सच।शुभकामनाएं आपको, भावी सफलता हेतु।
Meena Bhatt.
बहुत सुंदर मुम्बई के एक भाग का बहुत ही सजीव वर्णन।ढेर ढेर शुभकामनाएं।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.