उस गली में खुद को खो कर मुझे प्यार मिल गया

स्वप्ना काद्यान

उस गली में खुद को खो कर मुझे प्यार मिल गया
(16)
पाठक संख्या − 2435
पढ़िए

सारांश

बात पुरानी हो गई है , पर आज भी जब इस रास्ते से निकलती हूँ तो मद्धम सी हंसी आ जाती है चेहरे पर| " लड़की ने बहुत पढ़ाई कर ली है भाभी , अब कोई अच्छा लड़का ढूंढो और हाथ पीले कर दो | एक अच्छा रिश्ता है मेरी ...
ANUPMA TIWARI
अईईई मजा आ गया
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.