उसकी मुस्कानें

कृत्तिका मिश्रा

उसकी मुस्कानें
(191)
पाठक संख्या − 8907
पढ़िए

सारांश

ना जाने क्या बात है उसमें..जानता हूँ वो मेरी नहीं है,न कभी हो सकती है..फ़िर भी उसके एहसास में खो जाता हूँ ! वो आसपास होती है तो लगता है दुनिया इतनी भी बुरी नहीं...! भूल जाता हूँ पिताजी का चिड़चिड़ापन.,
daisy magret
bahut bdiya... mene aapki story me khud ki story bhi dhubdh li 😇
Aryan Birwa
Kavi kavi yd aa jati h wo v 😊😊😊
Nandan Rawat
लफ्जों को हकीकत मे लिख दिया, उम्दा
रमेश मेहंदीरत्ता
सुहानी यादें सभी के पास है कोई कोई शेयर कर लेता है क्या कहूँ
aThaRv Atharv
Beautiful story.. kp it up..👍
उमेश चन्द्र
unke muskurane ki vajah ho tum ? very nice short story
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.