उसकी झलक..

आशिष पण्डित

उसकी झलक..
(50)
पाठक संख्या − 3592
पढ़िए

सारांश

आज चौराहे पर  सिग्नल के इशारे पर गाड़ी रोके खड़ा ही था की बाजू से किसी की एक झलक दिखी। आज सात साल बाद अचानक उसका इस शहर में दिखना वो भी मांग में सिंदूर लगाए हुए ताज्जुब भरा था। मैं पुरानी यादों में खो ...
Poonam Kaparwan
oh my god so sorrow .painful meetings in seven years .suddenly meeting on traffic place.nice expression
रिप्लाय
Aanchal Tyagi
वोआतें है आंधी की तरह वो आतें है आंधी की तरह और एक पल में झकझोर कर चले जाते हैं🙏
रिप्लाय
Neha Mishra
बहुत बढ़िया 👌 लेकिन आगे और पढ़ना था हमें 😃😃
रिप्लाय
आजाद राव
this app is nice
रिप्लाय
AJAY THAKKAR
अहप्रीतम
Rachna Chaudhary
vah kaya baat hai
रिप्लाय
Dharmpal Matwa
बहुत खूब
रिप्लाय
रजनी
.......काश हम थोड़ा और पढ़ लेते 😀 वो कुछ देर और ठहर जाती तो आप थोड़ा और लिख लेते 😀
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.