उलझन

कुलदीप कन्नौजिया

उलझन
(18)
पाठक संख्या − 689
पढ़िए

सारांश

ज़िन्दगी हमेशा एक जैसी कभी नहीं रहती, बदलाव ही प्रकृति का नियम है। राधिका और मेरी कहानी का भी यही एक हिस्सा है। ज़िन्दगी के कुछ वो रंग भी देखे, जो कभी सोचे भी नहीं थे।
Richa Bagga
ap story ko waiting me kyu dalte hai.. mera savabhimaan part 1 read kr ke itne time bad bhul bhi gye tb next part aya.. itna time waiting me dalne se interest khatam ho jata h story me and bhul bhi jate hai
रिप्लाय
Nisha Sori
👌bahut badiya next part jaldi uplode kre jyada wait na karwaye . 😊
दिव्या सिंह
बेहद खूबसूरत. स्टोरी Congratulation sir 🙏
रिप्लाय
Rajni Gupta
nice
रिप्लाय
Maroof
bahut khusnaseeb ho jo pehla pyar Milne ja Raha hai,nice story
Noopur Awasthi
kahani ko waiting pr dalna buri baat abhi mera swabhiman bhi atki h kahna h next part. achcha likhne lge ho ap bs wait mt karne bolo tratmay bigad jata h mood or kahani k😊😊😊
रिप्लाय
Laxmi Nayyar
इसके आगे की कहानी क्या है
राहुल गर्ग
भाग 2 का इंतजार हैं
NITESH KUMAR
aap har bar hme suspence me dal dete h ajr aage ki story prakashit nhi karte yah bahut buri baat h waise khani kafi achi thi magar
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.