उम्मीद की दीवाली

पंकज विश्वजीत

उम्मीद की दीवाली
(30)
पाठक संख्या − 3881
पढ़िए

सारांश

दीवाली आ रही है, कुछ ही दिन बाकि हैं, सात दिनों तक स्कूल का अवकाश ... खूब मज़े करूँगा, और दीवाली को तो पूछो ही मत, मिठाइयां, चूड़ा, घरिया, पकवान खूब खाऊंगा... पटाखे भी जलाउंगा । पर इस बार माँ के पास ...
Rekha Jain
मर्मस्पर्शी कहानी हैं....
jabardast shandaar bemisaal..h bhai..
Sharda Rani Shukla
Touching
रिप्लाय
उपेन्द्र यादव
बहुत खूब झकझोर के रख दिया । शब्दों के माध्यम से एक माँ बेटे की प्रेम कहानी के साथ साथ बहुत से लोगों की जिंदगी की हकीकत से रूबरू करा दिया ! 😢😢 हर मोड़ पर कहानी के आँखे नम 👏
sarita pal
aise kitne hi log ...khushiyo ki diwali ki umeed lagaye baithe hai............sbkI diwali khushiyo se bhri ho
Shiv Gupta
बहुत ही भावविभोर कर दिया मुझे जब मैंने दीपावली के पर्व पर माँ बेटे का अनूठा प्रेम की अनुभूति की ।।।सच बोलू तो एक समय के लिए मेरी आँख भी नम हो गयी थी।।।। आज भी हर दीपावली में ये कहानी दोहरती होगी ईश्वर उन पर कृपा करे।।।
रिप्लाय
अभिषेक शर्मा
बहुत खूब 👌👌👌👌 अद्भुत 👌👌👌👍👍
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.