इश्क़ किया जाए

सुरेन्द्र प्रताप सिंह

इश्क़ किया जाए
(15)
पाठक संख्या − 60
पढ़िए

सारांश

चल कुछ किया जाए, कुछ ना सही इश्क़ तो किया जाए। तंगी के दिन बड़े भारी है, चल अब दिल नीलाम तो किया जाए। मैं फ़ुरसत में हु साहिब, मिले तुमसे छुपकर ये काम तो किया जाए। तसव्वुर-ए-दुनिया मे जीते है, थोड़ी जमीं ...
ईश्वर सिंह बिष्ट
Nice creation and congratulations to you.
रिप्लाय
Suman Tandon
beautiful lines ,kuch kiya jaye
रिप्लाय
Harish pant
excellent
रिप्लाय
diptyben dp
વાહ ખૂબ ખૂબ સુંદર., આપ ભી અચ્છી રચના લીખતે હો. 👌👌
रिप्लाय
प्रीती वर्मा
waah ji bhut khub...👌👌👌👌👌
रिप्लाय
Bharat Gohil
ક્યા બાત હૈ👌..સુંદર રચના
रिप्लाय
प्रद्युम्न ✍️
इरादा तो नेक है
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.