इश्क और मर्यादा

Khushi Priyanka Gupta

इश्क और मर्यादा
(129)
पाठक संख्या − 4056
पढ़िए

सारांश

प्यार बहुत ही खूबसरत होता है और ये हमेशा ही ज़िंदा रहता है। इसकी महक को हमेशा मर्यादा के दायरे में बरकरार रखा जाए तो ये अनमोल हो जाता है
Sonu Sharma
⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐बहुत बहुत ही शानदार रचना प्रस्तुत की है जी    ⭐⭐⭐⭐ ⭐बहुत बहुत धन्यवाद जी आपका  ⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐ ⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐
रिप्लाय
Dipika Singh
very nice story
रिप्लाय
Anurag Chaturvedi
aaj to lagta hai ki shbd km pd jayege tarif me... vastv me behtreen story hai...
रिप्लाय
komal
nice story..
रिप्लाय
Shudhanshu Tiwari
Bahut sundar
रिप्लाय
𝕧𝕚𝕛𝕒𝕪 ⓢⓞ-ⓛⓤⓒⓚⓨ
आपकी समझदारी शब्दों की सजावट से ही समज मे आ जाती हैं। बहुत बढ़िया या...
रिप्लाय
rakesh asati
superb
रिप्लाय
Manisha
बहुत सुंदर भाषा शैली.... उच्च विचार स्तर....मध्यम वर्ग जीवन मे लोक समाज के महत्व और प्रभावित करने वाले फैसलो को दर्शाती रचना...
रिप्लाय
Rahul nayak
कहानियाँ और जिंदगी
रिप्लाय
पूजा भारतीय
बहुत सुन्दर...
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.