इश्क.काम

'सोच'

इश्क.काम
(61)
पाठक संख्या − 2546
पढ़िए

सारांश

"पंडित फोन रख। कल वो फिर आयेगी और तू फिर भूल जायेगा हमें। अभी वो है नहीं तो हम याद आ रहे हैं। तेरे इश्क के चक्कर में हम तो बस काम भर रहे गये। जरूरत भर दोस्ती..."
Samrat Aryn
कुछ शब्द छोडबो किये हैं महराज....पुरा इमोशन एकदम छितरा दिये हैं। कमाल🙏
रिप्लाय
Amit Chauhan
दोस्ती वाह
Anamika Shrivastav
Benaras aana hi hoga... jane to aisa kya hai waha ki hawao me ki log dosti me kuchh aisa bhi kr de ki jamana misaal de.. pahle sahar aur ab ishq. com.. chaunchak😍
रिप्लाय
Rohit Kkumarr
bhai bhaut khubsurat likhe ho...
SAUMYA KUMARI
seems like true bhu life
Akshay Aditya
बहुतई बढ़िया लिख दिए आप
लायबा अंसारी
Wah......bht aala .....dosti aisa hi rishta hy.....bht hi shandaar likhi kahani......asal me kahani nhi lg rahi...ye to asli zindagi lagi jo padhty huy meny bhi g li......ant me aankho me aansu hontho p hasi hy....bht hi badhiya....kash 5 star se zyada de sakti
रिप्लाय
Gitesh Mishra
बहुत खूब
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.