इंतजार

deepa prabhakar

इंतजार
(9)
पाठक संख्या − 420
पढ़िए

सारांश

यू तेरा मेरी जिंदगी में अचानक आना और आकर चले जाना किसी परी कथा से कम न था।तेरे साथ जुड़ा हर अहसास किसी जन्नत से कम न था। तो क्या हुआ जुदा हो गये हम।हालात के हाथों मजबूर हो गये हम।मिलेंगे कभी ना कभी ...
संतोष नायक
'तेरे साथ जुड़ा हर एहसास किसी जन्नत से कम न था'। रचना' इंतजार 'बहुत पसंद आई।
रिप्लाय
Rajesh Kumar
kuchh khaas nahin!!
रिप्लाय
Swarup Acharya
Lazabab..
रिप्लाय
Anshumali Tyagi
Height of positivity 😊👍
रिप्लाय
Gk Nayak
ग ज ब
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.