आधुनिक जीवन में ” फेसबुक ” ( part 1 )

kumkum chaki

आधुनिक जीवन में ” फेसबुक ” ( part 1 )
(5)
पाठक संख्या − 215
पढ़िए

सारांश

आभासी दुनिया की विडम्बना लेखक ने जो खुद अनुभव किया,जन जागरूकता बढ़ाने उसे आत्मकथा के रूप में पेश किया ।
Devvrat Kumar
बहुत ही अच्छा लिखती हैं
रिप्लाय
मल्हार
बेहद संजीदापन के साथ लिखा है आपने 👌👌💐💐💐
रिप्लाय
Choudhary
Sahi h
रिप्लाय
rani
nice
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.