आधी मोहब्बत

नीरा

आधी मोहब्बत
(106)
पाठक संख्या − 10840
पढ़िए

सारांश

तुमने पक्का सोच लिया है? - महेश ने डबडबाती आँखों से कहा। हाँ, और यहीं मेरा आखिरी फैसला है- दुलारी ने पूरे स्वाभिमान के साथ कहा । सुन कर महेश की आँखों से आँसू छलछला गए,उसका गला रूँध गया। उसने दुलारी ...
Arunima Thakur
bahut sahi.....mai bhi ye manti hoo ki baki sare rishte bhale hi aatma ke ho per pati patni ka rishta sharir ka hota hai..kaise kisi ke kahne par ki aatma ek hai dusre sharir ko apna pati maan le.....
रिप्लाय
Dhani Vyas
कहानी अच्छी लगी.......।
noor
bahut achi ha story par ending sad rhi,,,
राजेश सिन्हा
बेहतरीन कहानी। इस कहानी का अंत बेहद सही एवं उम्दा है।
रिप्लाय
महक
अच्छा लिखते हो आप। आआपकी सृजनक्षमता कबीके तारीफ है
रिप्लाय
Vinay Anand
उम्दा कहानी बधाई सर जी
रिप्लाय
Khanak Sharma
kahani adhure hai please pura karny ki kosish kare
रिप्लाय
Rupa Gurjar
बहुत ही मार्मिक कहानी है दिल को छू लेने वाली
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.