आत्मसंतुष्टि

Gaurav Kumar 'वशिष्ठ'

आत्मसंतुष्टि
(84)
पाठक संख्या − 2970
पढ़िए

सारांश

इस बार भी मैं एक वस्तु को उसके मालिक तक पहुँचाने में विफल हो चुका था, पर दिल में अजीब सा सुकून था।
narenkumar biswas
i dont know know whether its a true story or not...but buddy i m gonna say that you inspired me...love u buddy
रिप्लाय
Jaiveer Singh Poonia
nice
रिप्लाय
Rajiv Rajput
good
रिप्लाय
Suresh gupta
nice thought
रिप्लाय
Rachana Wadekar
बडा मन पाया है आपने.
रिप्लाय
Sunny Kansykar
imandaari or daya v koi cheez hai boss ... sahi hai
रिप्लाय
anilgarg
Man khush ho gaya
रिप्लाय
Sangita Shukla
कहानी दिल को छू ली
रिप्लाय
सरोज
वाह! लाजवाब 🙏 🙏
रिप्लाय
Vijay Kumar
उत्तम
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.