आज की आम्रपाली

विरासनी सिंह

आज की आम्रपाली
(436)
पाठक संख्या − 21574
पढ़िए

सारांश

मैं समाज के ठेकेदारों से एक सवाल करती हूँ कि कौन होती है वेश्या? जो अपना तन कभी अपनी मर्जी से और तभी अनिच्छा से पुरुष को सौप देती है उसे ही वेश्या नाम से परिभाषित किया जाता है to..
Mahika Mahi
आज की एक कड़वी सच्चाई बहुत खूब लिखा आपने
🇦🅿🅰🆁🅽🅰  🇷🅰🅹🅿🇺🆃
आपको रचना के लिए साधुवाद। । दिल में एक चुभन पैदा करती कहानी।।वेश्यालय में रहने वाली औरतों को तुच्छ समझा जाता है,जबकि वेश्यालय में कोई गरीब मर्द नहीं जाता,सफेदपोश अमीर और "इज्ज़तदार" लोगो का वहां जाना होता है,जिनकी वजह से एक औरत वैश्या बनती है।पहले तो समाज एक लाचार औरत को इज्जत से दो पैसे कमाने नहीं देता,फिर जो जिस्म उसका खुद का है,जिसे वो बेचती है,बिकते हुए तो सब देखते हैं, लेकिन स्वीकार नहीं करते।
रिप्लाय
Uday Veer
well well well my god great lajabab rachna kabil'e tarif
Amit Chauhan
bahot kuch kah diya aapne,mam. ati uttam
𝕧𝕚𝕛𝕒𝕪 ⓢⓞ-ⓛⓤⓒⓚⓨ
बहुत खुब, सरल लैखनशैली से सामाजिक संदेश भी दे दिया, सरस
poonam chauhan
समाज को आइना दिखाने वाली कहानी 👌👌
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.