आज की आम्रपाली

विरासनी सिंह

आज की आम्रपाली
(353)
पाठक संख्या − 18700
पढ़िए

सारांश

मैं समाज के ठेकेदारों से एक सवाल करती हूँ कि कौन होती है वेश्या? जो अपना तन कभी अपनी मर्जी से और तभी अनिच्छा से पुरुष को सौप देती है उसे ही वेश्या नाम से परिभाषित किया जाता है to..
मंजुबाला
बहुत बेहतरीन रचना
Meenakshi Singh Bhardwaj
सार्थक सृजन
Shivam Soni
bahut hi sundar sabdo me ek nari ki paribhasha di aapne
इम्तियाज भाटी
बहुत ही सुन्दर रचना है आपकी ा
Navisha Soni
बेहतरीन कहानी मार्मिक सच्चाई
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.