आखिर क्यों और कब तक? #ओवुमनिया

प्रिया

आखिर क्यों और कब तक? #ओवुमनिया
(18)
पाठक संख्या − 309
पढ़िए

सारांश

पूनम ने तय कर लिया कि अब बस... अब और नहीं। आखिर प्यार दोनों ने किया तो सिर्फ वह अकेले इस रिश्ते को कैसे बचाएगी? घरेलू हिंसा की बलि चढ़ गया उनका रिश्ता......
मीरा परिहार
बधाई,बहुत बढिया रचना
रिप्लाय
aparna
nice story 👌👌👌
मृत्युंजय जौनपुरी
सुंदर एवं अच्छी सच्ची कहानी।
रिप्लाय
neetu singh
Achhi kahani. बहुत बहुत बधाई
रिप्लाय
Santosh Kumar
धन्यवाद प्रिया जी इंसान को सोच समझ कर फैसला करना चाहिए
रिप्लाय
ईशा अग्रवाल
अच्छी कहानी है। आपको बधाई।
रिप्लाय
Dipti Biswas
बधाई
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.