आक्रोश

Indira Kumari

आक्रोश
(33)
पाठक संख्या − 402
पढ़िए

सारांश

यह kabita मैं nirbhaya kand के बाद rajniti aur poolish के tikaram से udwelit hokar likhi hun
kuldeep singh
लाजवाब।
रिप्लाय
अभिनंदन कुमार
सही..कही..
रिप्लाय
Dev ઠક્કર.
😭😭
रिप्लाय
Asha Shukla
very impressive.... heart touching creation.
रिप्लाय
डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
बहुत बढ़िया
रिप्लाय
Parmanand jha
बहुत सुन्दर
रिप्लाय
Jiwan Sameer
सुंदर
रिप्लाय
Smriti Tiwari
Indira ji Samajik muddo ka badi hi gehrai se Chintan Karti hain evam apni bhavnao Ko badi hi saralta se jansadharan tak pahochati hain.unhe bahot bahot shubhkamnayein..
रिप्लाय
M N Thakur
अतिसुन्दर..मन को झकझोर देने वाली भावुक कविता
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.