आकर्षक प्रेम

sakshi sinha

आकर्षक प्रेम
(4)
पाठक संख्या − 120
पढ़िए

सारांश

यहाँ किसी अध्यापक को सकेंत नही किया गया है, यहाँ कुकर्मी को सकेतं कर किसी अवला को बचाने पर सकेंत दिया जा रहा है। स्त्री धन है इसलिए उसे लक्ष्मी का दर्जा दिया गया है। किसी भी लड़की को अनपड़ न रखे। ताकि वो किसी का ऐसा आकर्षण न बने और अपने दोषी को सजा दिलाए नाकि खुद सजा का पात्र बने।
विनीत शर्मा
बहुत बढ़िया सीख दी आपने कहानी के जरिये। बधाई के पात्र हैं आप अच्छी रचना के लिए
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.