आईए इंसान बनें

विम्मी मल्होत्रा

आईए इंसान बनें
(85)
पाठक संख्या − 19784
पढ़िए

सारांश

किसी गाँव में एक सूरज नाम का व्यक्ति रहता था । खेती बाड़ी तो थी नहीं,बस एक जोड़ी बैलों कि बची थी जो कभी और गाँव वालों के खेत जोतने के कामआते थे । एक बेटा था राम जो पढ़ाई के बाद शहर में सरकारी नौकरी ...
रजनीश चंदेल
nice ... and meaningful hai 👌👌
Vivek Kumar Rajput
बच्चों जैसा निस्वार्थ प्रेम अगर इन्सानों में भी हो तो, दुनिया की सारी समस्याएं दूर हो जाय
रिप्लाय
Ranjeet Bhiralia
बहुत ही सुन्दर
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.