अ नाॅट अनटाइड

शालिनी अग्रवाल

अ नाॅट अनटाइड
(248)
पाठक संख्या − 9355
पढ़िए

सारांश

इक उम्र होती है न जब बचपन खत्म होने को हो और जवानी अभी आई न हो, वह अल्हड़ उम्र, जिसमें मन प्रेम के नए नए एहसासों को छू छू कर खिलता सा जाता है,,, शिखा उम्र के उसी दौर में थी। गेहुआँ रंग,,गहरी भूरी ...
राजेश सिन्हा
लिखने को शब्द नही है। अति सुंदर।
रिप्लाय
Aradhya Upadhyay
😥😌
रिप्लाय
Shashi Yadav
speechless 😍
रिप्लाय
Devendra Rawat
woww रुला दिया आपने।। काश कोई ऐसा प्रेम को समझने वाली ओर प्रेम करने वाली मिले
रिप्लाय
Arunima Thakur
good
रिप्लाय
खूज़ेमा
अति सुंदर....... 😊 कहानी... पात्र.... चित्रण......, 💝 प्रारंभ से अंत तक......, आपने जो ख़ूबसूरत चित्रण पात्रों का किया है.... कि हरएक पात्र अपना सा लगता है...... और अंत भी बहुत ही सुखद.... सच सच्चे प्यार की हमेशा ऐसी ही जीत होना चाहिए..... 😊 👌👌👌🙏🙏
रिप्लाय
Puja Kedia
wow ky story thi jinha milna hota h wo mil he Jata h topic bilkul saahi diya h saacha pyaar ki takat ekdusro Ko pass lahe aate ha r ek kr deti h jaisa Shikha nd Raj ek hua
रिप्लाय
Umesh Kumar
Bhut hi umada likha h
रिप्लाय
Pooja patil
लाजवाब.......
dinesh kadam
awesome unique heart touching romantic story
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.