अल्ला वारिस दे

अंजुलिका चावला

अल्ला वारिस दे
(64)
पाठक संख्या − 2949
पढ़िए

सारांश

बेटे की चाह अर्थात स्त्री के मातृत्व की गौरवमयी उपलब्धि! हम स्त्रियां ही जिम्मेदार हैं अपनी सामाजिक स्थिति के लिए
Shrishti
Bhot khoob 👌
रिप्लाय
Ravinder Arya
ऐसा लगा मानो सौ झूठ के मध्य एक सच्च का धमाकेदार पदार्पण हुआ है.
रिप्लाय
PHOOLJAHAN ANSARI
andhvishwas ki had hai
रिप्लाय
Dr Pratibha Saxena
सटीक कथा
रिप्लाय
Rachana Wadekar
Kya baat hai mam
रिप्लाय
Bhavana Sagar
समाज में फैले भ्रम और कुरीतियों को बहुत खूबसूरती से उभर है आपने।
रिप्लाय
Namrata Chandak
सही बात को ग़लत तरीके से प्रस्तुत किया है आपने फ़िर भी लिखने की हिम्मत जुटा सकी इसके लिए 👌कहानी का टाइटल भेद जाहिर कर रहा है सोच का
दीपा
👍👍
रिप्लाय
Shachi Chaturvedi
Ye samaj ka bahut bada sach bhi hai or hm is bat ko najar andaj nahi kar sakte... Aapki saral bhasha me likhi gayi ye kahani muje dukhi to kr gayi pr lekhni me Dam hai... Likhte rahiye.
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.