अर्थात् एक ज़रूरी काम और अन्य कविताएँ

हेमंत शेष

अर्थात् एक ज़रूरी काम और  अन्य कविताएँ
(14)
पाठक संख्या − 454
पढ़िए

सारांश

अपने कवि-मित्र अनिरुद्ध उमट के लिए कुछ कविताएं ....
दोलन रॉय
बहुत सुंदर रचना
कमलकांत
बहुत उम्दा कवितायें. साधुवाद
विजेता राठौर
speechless.....me sirf itna hi khna chahungi...ki new poets ko acha sahitya pradan krne k liiye dhanywad...
Dinesh Vaidya
I have read very few poets of the calibre of Hemant Shesh. He is superb in encapsuling a deep thought in a nutshell. His choice of words are superlative. Excellent poems these. Kudos to him.
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.