अरेंज मैरिज

श्वेतांक गुप्ता

अरेंज मैरिज
(77)
पाठक संख्या − 8993
पढ़िए

सारांश

संजना और सिद्धार्थ दोनो एक दूसरे को प्यार करते थे पर दोनो ही अपने प्यार का अंजाम जानते थे गैर जात के होने के कारण उनकी शादी मुश्किल थी " कब तक यूँ ही हम छुप - छुप के मिलते रहेगें " ठंडी साँस भरते हुए ...
विशाल कोळी उरण
संत रैदास म्हणे- ह्या जगात दुखांचे काही अंत नव्हे। म्हणून नित्य श्रीभगवद्गीता , पुराणें , रामायणाचा पाठ करा धन ,संपत्ति आणि मोक्ष मिळवा। Bhagavad Gita As it's (All languages @Amazon) www.srikrsnaknowledge.wordpress.com
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.