अम्मा,मैं आ गई..

अंजुलिका चावला

अम्मा,मैं आ गई..
(422)
पाठक संख्या − 17347
पढ़िए

सारांश

मुझे अम्मा की बीमारी की खबर हर साल - छह महीने में अलग अलग तरीके से मिलती थी ... कभी वात की तकलीफ है आ जाओ, कभी बी पी बढ़ गया है । मैं जा कर मिल आती थोड़े दिन रह कर सेवा भी कर आया करती थी। बेटे ने ...
राहुल यादव
आत्मा को छू लेने वाली कहानी
आकाश इफेक्ट
संस्मरण के रूप में एक अभूतपूर्व कथा 👌👌👌 बिना किसी कल्पनाशीलता का सहारा लिए सीधे सपाट शब्दों में जो कहा गया वो वास्तविक ही लगा। बढ़िया प्रयास।
Megha Srivastava
उफ़ .....सच में अपनी को मौत कितना कुछ पीछे छोड़ जाती हैं। जिसकी भरपाई आसान नहीं।दिल को छू केने वाली कहानी
Saurabh Tuteja
कोई शब्द नहीं। 😪
रिप्लाय
Mamta Upadhyay
दिल को छू गई मार्मिक स्टोरी
Ajay Gupta
ये पल ऐसा होता है जिसमें इंसान अपने आप को सबसे ज्यादा असहाय महसूस करता सब उसके सामने होता है पर वो कुछ भी नहीं कर सकता
eshaan Saluja
hospital aisi jagah hai jaha bahut taklif hoti hai bagwan apno ko Jada taklif na de.
Dipak Jani
शायद इसीलिए जीतेजी देख भाल आवश्यक हैं।
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.