अभी धोखा खाया नहीं तुमने.. (गजल)

तरुणा डहरवाल

अभी धोखा खाया नहीं तुमने.. (गजल)
(180)
पाठक संख्या − 881
पढ़िए

सारांश

शुरूआत हैं अभी,अभी धोखा खाया नहीं तुमने राह बाकी हैं अभी, अभी सबको आजमाया नहीं तुमने
Baljeet Kaur
सच को बड़े अदब से बयां किया आपने 👌👌
Amrit Raj Chouhan
बेहतरीन और हृदयस्पर्शी... आपने अपनी गज़ल के द्वारा जिंदगी की सच्चाई को बखूबी बयान किया है।
Shilpi Saxena
wahh....bahut hi khoobsurat gazal...👌👌
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.