अभी और जीना है...

Nebula J

अभी और जीना है...
(28)
पाठक संख्या − 71
पढ़िए

सारांश

टुटे रिश्तेसे बिखराबिखरासा जिवन तेरा जिन्दगीसे रुठा रुठा,डराहुआ थकाहारा निराशाकी पिन्जरमे सिमटा जिवन तेरा कालेबादलोंमे भटका जैसा जिवन सारा ऐसा पाया तुमको करिबसे जबसे जाना कैसे फिरसे उडना सिखाउ जरा ...
Puja Thakur
बहुत सुंदर 👌
Kusum Kamboj
कविता का भाव बहुत सुंदर है। लेकिन आपको अपनी हिन्दी सुधारनी होगी। विशेष तौर पर वर्तनी ( spelling) और दो शब्दों के बीच जगह ( space).
Prashant Tiwari
अभी सुधार की जरूरत है
अशोक बरोनिया
हिंदी लेखन पर ध्यान दीजिएगा। व्याकरण की त्रुटि न हो पाएं तो बेहतर रहेगा जान्वी जी
कृष्णा............
कविता का भावार्थ समझ मे आ गया पर हिंदी लिखने में त्रुटि है। लेकिन में खुद नही लिख पाता था पहले ......☺️
Gauri Gupta
बहुत सुन्दर
Sonu Sharma
Very Nice..............................................👌👌👌👌👌 Very Nice.........................................👌👌👌👌👌👌line..................…..........................✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️ Thanks So Much................…......🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 आप की जितनी तारीफ की जाए इतनी ही कम है इसलिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद बहुत ही अच्छा लिखा यह पढ़कर बहुत अच्छा लगा आपका बहुत-बहुत धन्यवाद🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐⭐✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️✍️🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆🏆 🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🎁🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅🏅 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
Shaline Gupta
अच्छी कविता है।
रिप्लाय
Vinay Anand
अच्छा है
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.