अभागी दुल्हन

Rekha Sharma

अभागी दुल्हन
(6)
पाठक संख्या − 130
पढ़िए

सारांश

दुलहिन देखो ये तुम्हारे चचिया ससुर हैं, इनके पैर छुओ.”“ये सबसे बड़ी वाली ननद हैं, ये मंझलीवाली हैं और देखो ये रमेस की दुलहिन है.”“अरे-अरे इसके पैर क्यूं छू रही हो? ये तो रिस्ते में तुम्हारी देवरानी ...
मनीषा सहाय
बहुत अच्छी भावनात्मक लेखन है.... शीर्षक भी सार्थक है।..... मेरी कहानी *साझी पीड़ा *अवश्य पढ़ें और अपनी समीक्षा दें
रिप्लाय
Damini
एक ही बार में पूरी कहानी पढ़ डाली क्या कहूँ निशब्द हूँ कहानी में जिस तरह से भावनाओं को व्यक्त किया है काबिले तारीफ है। बहुत अच्छी रचना है आपकी 👌👌👌👌🙏
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.