अब मैंने दूसरी ओर देखा

खेमकरण 'सोमन'

अब मैंने दूसरी ओर देखा
(17)
पाठक संख्या − 970
पढ़िए

सारांश

लघुकथा
Hari Agarwal
Nice
रिप्लाय
आकाश इफेक्ट
विषय एवं पटकथा अच्छा है पर समय/काल के साथ युद्ध वाली बात कथा को लेखक की कोरी कल्पना बना देती है जो ये सिद्ध करती है कि स्त्री के साथ यथोचित व्यवहार मात्र कल्पना में ही सम्भव है।
रिप्लाय
मंजू शर्मा
kaash puri duniya asi sóch rkhe ;jsa kahani ke aànt me h
रिप्लाय
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.