अब के बरस भेज भैया को बाबुल

अंजुलिका चावला

अब के बरस भेज भैया को बाबुल
(182)
पाठक संख्या − 16408
पढ़िए

सारांश

निम्मो की ससुराल में झगड़ा हुआ है। उसके ससुर ने जब से फोन पर खरी खोटी सुनाई है , सारा परिवार बैठ कर मन्त्रणा कर रहा है। "शादी से पहले ही कहा था उनकी मांगें बढ़ती जा रही हैं मत करो रिश्ता।"मंझला बड़बड़ाया ...
Pooja Sharma
बहुत अच्छी लेखन है। समाज में ऐसा होता तो कितना अच्छा होता
Sudhir Kumar Sharma
अद्भुत. मार्मिक
Mamta Upadhyay
very nice
रिप्लाय
Anita
very good
रिप्लाय
Smita Nigote Yadav
nice
रिप्लाय
Amita Srivastava
Good
रिप्लाय
Aparna Kishore
Adiktar praise wale yahi karate hai
रिप्लाय
raju
soch samjh k sadi ka bhaisla krna chahiye
रिप्लाय
Deepak Choudhary
कमोबेश समाज के सभी वर्गों की यही कहनी है।
रिप्लाय
Nilam Tiwari
kaash har ghar me aise bhai ho....
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.