◆अपराजिता भाग-02◆

शालिनी पंकज

◆अपराजिता भाग-02◆
(32)
पाठक संख्या − 14059
पढ़िए

सारांश

आज सगाई थी सहेलियों सब कितनी खुश थी।ईशा ने हाथो में मेहँदी लगाई,  बहुत चहल पहल थी,पर मैं अपने कमरे से बाहर ही नही निकल रही थी!सहेलियां पूरी रिपोर्टिंग कर रही थी !कितनी रौनक थी घर में, दूर से ...
Manju Agarwal
दिल को छूने वाली एक लडकी की मन स्थिति
Ankur Gupta
उत्कृष्ट लेखन कला
Pooja Agarwal
ह्रदय सपशी कहानी
सिद्धार्थ अरोड़ा
सिर्फ और सिर्फ वर्तनी की दर्जन भर खामियों के लिए। दूसरा, पूर्ण विराम नामक एक चिन्ह होता है जिसे लगाना बहुत ज़रूरी होता है, वर्ना कहानी कहानी न रहकर रैप सांग बन जाता है। जिसके लिए अलफ़ाज़ या बादशाह की ज़रुरत लाज़मी लगती है।
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.