अन्तिम बतीस पहर

Paras Jangid

अन्तिम बतीस पहर
(84)
पाठक संख्या − 2870
पढ़िए

सारांश

यह वेदान्त नाम के एक नौजवान की कहानी है उसे अपनी मृत्यु का आभास हो जाता है जिसके बाद वह कैसे अपनी जिन्दगी के आखिरी दिन को जीभर के जीता है और कैसे लोगों की कमजोरो पर हसने की आदत का सामना करता है .....का वर्णन है story of Vedant ...... who has sixsence of his death. how he wait for his death. what he do end of his life. instead he faced to people.
सिमरन जयेश्वरी
oh my god!!! seriously padhte waqt dheere dheere aage kya hona hai ye janne ki utsukta badhti jaa rhi thi.. it's an amazing story.. 👌👌👌👌👌👌
Mk Soni
Bilkul Sahi Jab Marne Ka time pta ho to dsRNA fijul hy
Seema Singh
wqt se ghbhrao nhi wqt ko sathi bna kr sath chlo to shayad jldbazi se bach jaye...awsome story Mr.Paras👍
रिप्लाय
Dani(दानि) Israr(इसरार)
Behtreen kahani....lekin adhoori hai
रिप्लाय
Asha Shukla
बेहद शानदार कहानी!!👌👌💐💐
Rajan Kumar
sir g gajab story. dil ko Choo gyi
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.