अनब्याही

मौमिता बागची

अनब्याही
(344)
पाठक संख्या − 19091
पढ़िए

सारांश

अनब्याही अमृता जी का बीपी कई दिन से लो चल रहा था। फिर भी सुबह-सुबह वे वाॅक पर गईं। फिर जो होना था वही हुआ। पार्क का एक चक्कर पूरा करते करते खुद भी चक्कर खा कर गिर पड़ीं। आसपास जो भी मौजूद थे तुरंत ...
Rolly Kumari
heart touching story
रिप्लाय
Afshan Nikahat
Bahut mamsparshi kahaani
रिप्लाय
Sunita Veer
Atyant marmsparshi kahani..... Sunder lekha n
Aparna Sinha
Bhawnao ko samaj le ,kuch kahne ki stithi nahi hai
रिप्लाय
SAROJ BALA SINGH
speech less likhne ke liye Shane nahi hai behtreen
रिप्लाय
Pinky Bhardwaj
ek lady hi y SB kuch kr Sakti h. speechless.
रिप्लाय
janki
Awesome
रिप्लाय
Anuradha Narde
man Ko Chu gayi, kuch shabad nahi,bahut hi sunder kahani,aap ko naman
रिप्लाय
Niti Saboo
आंसू आ गए ।
रिप्लाय
kalpana shivhare
very emotional story
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.