अनजाना क़त्ल

सूर्य नारायण शुक्ल

अनजाना क़त्ल
(162)
पाठक संख्या − 38571
पढ़िए

सारांश

भाग 1 पीयूष बेटा उठ जाओ सुबह हो गयी आखिर कब तक सोयेगा तू.........मम्मी ने पीयूष को आवाज लगाते हुए कहा उठ जाऊंगा आज तो सोने दे माँ......आज सन्डे है वैसे भी ऑफिस वाले दिन ठीक से सोने को नहीं ...
Geeta (Garima) Pandey
वाह, बहुत बढ़िया!
Mamta Upadhyay
बहुत अच्छी लगी
Puja Thakur
बहुत ही रोचक कहानी ।
Sunny Kansykar
murder in geetanjali express का short virsion है कॉपी,,,
Dev Tiwari
बहुत सुंदर रचना 👌👌👍
Uday Pratap Srivastava
एक अच्छी कहानी
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.