अनकहा रिश्ता

संतोष भाऊवाला

अनकहा रिश्ता
(367)
पाठक संख्या − 23371
पढ़िए

सारांश

अपूर्णता कृति बच्चे को गोद में लिए सोच रही थी, कितनी खुशकिस्मत है वह, उम्मीद ही नहीं थी या यों कहें, सपने में भी सोच नहीं सकती थी कि एक दिन बच्चा उसकी गोद में खेलेगा, उसे माँ कहेगा। यह सुख भी किस्मत ...
sudha tiwari
बहुत ही सुन्दर कहानी
Davinder Kumar
आप की कथा का विषय एकदम हटकर है
Umesh Kumar
awesome kash sach me Aisa hota
Swarn Lata Purohit
👏👏👌👌👌👌👌
shakun gautam
बहुत अच्छी और व्यावहारिक ...
Uttam Singh
अति सुंदर
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.