अधूरा प्रायश्चित

सीमा सिंह

अधूरा प्रायश्चित
(239)
पाठक संख्या − 11683
पढ़िए
An kahe jajbat
It's really heart touching story....... I just loved this story.......
करतार सिंह राजस्थानी
ह्रदयस्पर्शी ओर पश्चताप पर गहरी दृष्टि डालती रचना ।
मयंक सैम
हृदय तरल नयन सजल हो गए.... बहुत खूब मार्मिक कहानी
Taneshawer Navghare
sahi mai is a hi hota hai
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.