अतीत - एक नामुमकिन सच

केतन कोठारी

अतीत - एक नामुमकिन सच
(109)
पाठक संख्या − 15425
पढ़िए

सारांश

प्रस्तावना जब ये कहानी लिखने बैठा, तब मन में कोई ठोस पृष्ठभूमि नहीं थी, क्या लिखना है, किस विषय पर लिखना है, कैसा लिखना है? कुछ तय नहीं था। पर जब भी लिखने बैठता अपनी ज़िन्दगी के कुछ लम्हें खुद ब खुद ख्यालों से कलम के जरिए कागजों पर उतरते चले गए। ये कहानी सम्पूर्णतः मेरी खुद की ज़िन्दगी की कहानी तो नहीं है पर ये कहना भी गलत नहीं होगा की कुछ हद्द तक ये मेरी ज़िन्दगी के अतीत से जुडी हुई है। ज्यों ज्यों कहानी आगे बढती जा रही थी, लिखने का मजा बढ़ते जा रहा था। ख़ुशी का हिस्सा बनती थी मेरी सखी, मेरी सबसे अच्छी दोस्त। कुछ लिखकर उसके साथ बांटता था, उसे सुनाता था और वो मुझे और प्रोत्साहित करती थी। लिखते लिखते वो भी इस कहानी का हिस्सा कब बन गयी पता ही नहीं चला। अपनी उस सखी को तहे दिल से शुक्रिया अदा करता हूँ, क्यूंकि उसके प्रोत्साहन, और मुझ पर विश्वास के बिना में इस कहानी को आप तक नहीं पहोंचा सकता। २ साल की लम्बी अवधि में सम्पूरित हुई, छोटी सी इस कहानी के अगले क्रम के बारे में सोचते, लिखते, इस कहानी का हिस्सा बनी मेरी ज़िन्दगी की हमसफ़र, मेरी अर्धांगिनी उर्मि। काफी कुछ उससे भी सिखने को मिला, मेरा मतलब है लिखने को मिला। प्रेम जैसे पवित्र रिश्ते पर अंकित इस कहानी में कहो तो कुछ नयापन नहीं है, और अन्य लेखको की तरह मैं ये नहीं कह सकता की मेरी कहानी सबसे हट के है, पर प्रेम जैसे विषय के साथ बिलकुल भिन्न कथानक पर आधारित है मेरी कहानी। सिर्फ ३ किरदारों के इर्द गिर्द घुमती इस प्रेम कहानी में कोई त्रिकोणीय प्रेम जैसी विषयवस्तु भी नहीं है पर प्रेम का दूसरा नाम त्याग है, की जनोक्ति को प्रमाणित करती है ये कहानी। आशा करता हूँ की अपनी कल्पना और ज़िन्दगी को जिस मेहनत से इन कागजों पर उतारा है मैंने, वो आपकी प्रशंसा और सराहना के काबिल होगी। अपनी पहली पुस्तक के बारे में वाचकों का अभिप्राय जानने का इच्छुक है ये अदना सा लेखक। कृपया अपने अभिप्राय, चाहे जो हो, जैसे हो, मुझे लिखे इस ई-मेल आई.डी पर: kketishk@gmail.com.
Mamta Gupta
Nyc...... speechless
kajol agrawal
bhut hi sunder rachna... Sahi kha h.. agr kisi ko poori siddat se chaho to sari kaynat tmhe usse milane ki koshish krti h
रिप्लाय
Mubaz Ansari
amazing story..
रिप्लाय
Rishabh Patoria
वाह…बहुत ही अद्भुत। क्या कहानी लिखी है आपने। बहुत ही मार्मिक। मैं आपकी किन शब्दों में ताऱीफ करूँ, समझ नही आ रहा। I am speechless… No words for the compliment sir ji…
रिप्लाय
sauravi verma
behtareen
रिप्लाय
pritam pathak
superb....👌👌👌💐💐
रिप्लाय
Karishma Prajapati
no words for compliment... wonderful story,too good..👌👌🙏🙏🙏
रिप्लाय
Rahul
kal rat story puri na pad paya so aj early morning uth kar padi puri story really me jo excitement thi na meri is story ko leke vo I can't explain in words ...really
रिप्लाय
monika
øsm love story 😢😢😢😢
रिप्लाय
Leader Daksh
सच में..... कभी कोई जुदा ना हो इस तरीके से... बहुत मार्मिक कहानी लिखी हैं आप ने सर... रोना आ गया
रिप्लाय
सारी टिप्पणियाँ देखें
hindi@pratilipi.com
080 41710149
सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें।
     

हमारे बारे में
हमारे साथ काम करें
गोपनीयता नीति
सेवा की शर्तें
© 2017 Nasadiya Tech. Pvt. Ltd.